Tuesday, 20 November 2018

छुटपुट हिंसक घटनाओं के बीच बस्तर में 60 फीसदी से अधिक मतदान
मुठभेड़ में 5 नक्सली ढेर, 5 जवान घायल, अनेक जगह से आईईडी बरामद
जगदलपुर, 12 नवंबर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के लिए पहले चरण के मतदान के दौरान बस्तर की 12 विधानसभाओं में हिंसक माहौल में नक्सलियों द्वारा फायरिंग और बारूदी विस्फोट की घटनाओं के अलावा पंक्तियां लिखे जाने तक मतदान आम तौर पर शांति पूर्ण रहा। अब तक लगभग 60 प्रतिशत मतदान की खबरें मिली हैं।
मतदान के दौरान कई स्थानों में फायरिंग तथा बम विस्फोट में कुछ जवान घायल हुए हैं, लेकिन सौभाग्य वश कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ। संभाग के बाकी हिस्सों में मतदान कमोबेश शांति पूर्ण रहा। नक्सलियों द्वारा चुनाव बहिष्कार के ऐलान के बाद भी भारी संख्या में मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करने बाहर निकले।
मतदान में पुरूष मतदाताओं की अपेक्षा महिला मतदाताओं की संख्या अधिक रही। मतदान के रफ्तार में सुबह के बाद तेजी आई। अपवादों को छोडकऱ ज्यादातर मतदान केंद्रों में वोटरों की लम्बी कतारें देखी गईं। कुछ मतदान केंद्रों में मतदान की लहर सी चल रही थी। ग्रामीण इलाकों के दौरे से यह संकेत मिला कि मतदाता किसी मुद्दे के पीछे भागने की बजाए पार्टी तथा प्रत्याशी को देखकर बटन दबाते रहे। मतदान के प्रति महिलाएं ज्यादा रूचि दर्शा रही थीं। लगभग सभी मतदान केंद्रों पर यही नजारा था।
नक्सली इलाकों में कड़ी सुरक्षा के बीच मतदाता, मतदान करने पहुंचे। सभी आयु वर्ग के लोगों में मतदान के प्रति जबर्दस्त उत्साह देखा गया। मतदान केंद्रों के समीप पोलिंग एजेंट जहां मतदाताओं को पर्चियां बांट रहे थे, वहीं मतदान केद्रों पर तैनात सुरक्षा कर्मी स्थिति पर कड़ी नजर रखे हुए थे। चुनाव आयोग के सख्त रवैये से शोर-शराबे और तामझाम से मुक्त चुनाव प्रचार के बावजूद बस्तर में मतदाताओं के उत्साह से चुनावी माहौल गरमा गया। तमाम आशंकाओं के बावजूद अत्यधिक नक्सल प्रभावित जिलों में हिंसक घटनाओं के मध्य भारी मतदान हुआ।
सुकमा जिले में 100 साल एक वृद्धा ने वोट डाला वहीं गोरगुंडा मतदान केंद्र में 103 साल की वृद्धा को उसका पुत्र गोद में लेकर वोट डलवाने लेकर आया। चिंतागुफा में एक विकलांग युवक ने वोट डालने का साहस दिखाया।
मशीन की खराबी से आदनबेड़ा और संबलपुर में नहीं हुआ मतदान
केशकाल विधानसभा क्षेत्र के ग्राम पंचायत बेड़मा आश्रित गांव आदनबेड़ा एवं भानुप्रतापपुर के संबलपुर में ईवीएम मशीन खराब होने के कारण मतदाताओं को निराश होना पड़ा और बिना वोट डाले ही लौट जाना पड़ा।
केन्द्र शिफ्टिंग से चार केन्द्रों के मतदाता निराश लौटे
कांकेर विधानसभा के चार मतदान केन्द्र रासव, आमापानी, पर्रेदोड़ा एवं निशानहर्रा को रातों रात 12 किलोमीटर दूर ठेमागांव मतदान केन्द्र में शिफ्ट कर दिया गया, जिससे 700 मतदाता, मतदान से वंचित रह गए। ग्रामीणों का आरोप है कि हमारे केन्द्र के स्थानांतरण में हमें जानकारी ही नहीं दी गयी। उन्होंने अपने मतदान केन्द्रों में पुनर्मतदान की मांग की है।

शेयर करे...

मतदान में हिस्सा लेकर लोकतंत्र को बनायें.मजबूत : तम्बोली
जगदलपुर 11 नवम्बर। बस्तर कलेक्टर व जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ. अय्याज तम्बोली ने लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए लोकतंत्र के इस पर्व में सभी मतदाताओं को आज 12 नवम्बर को होने जा रहे मतदान की प्रक्रिया में भाग लेने की अपील की। उन्होंने कहा कि मतदाताओं की सुविधा के लिए मतदाता पर्ची का वितरण किया जा चुका है। इन मतदाता पर्चियों के आधार पर अपने.अपने निर्धारित मतदान केन्द्र में पहुंचकर मतदान करने की अपील उन्होंने की।

शेयर करे...

छठ महापर्व, घाटों की सफाई करना भूल गया निगम
जगदलपुर, 11 नवंबर। आने वाले सप्ताह भर तक छठ महापर्व के पहले तक जलाशयों की सफाई तक नहीं हुई हैं। दलपतसागर, गंगामुण्डा, इंद्रावती नदी के तट पर आम दिनों की तरह गंदगी पसरी नजर आई। पर्व के पहले निगम की लापरवाही के चलते श्रद्धा के इस पर्व श्रद्धालुओं को कचरे के ढेर के बीच अध्र्य देना होगा। जलाशयों में सफाई व्यवस्था लगातार सुर्खियों में बनी रहती है। इसके बाद भी इनकी साफ-सफाई को लेकर निगम गंभीर नहीं है। बारिश के बाद प्रतिमाओं के विसर्जन से भी इन घाट के दूषित होते रहे हैं। बीते साल निगम ने अलग से विसर्जन कुंड बनाने की बात कही थी, यह बात न तो शुरू हुई न ही इस ओर किसी जिम्मेदार ने ध्यान ही दिया। अब छठ पर्व पर औपचारिकता निभाने तक की शुरूआत नहीं हुई है।

शेयर करे...

मतदान के पहले शहर में पसरा सन्नाटा, मोबाईल से होता रहा संपर्क
जगदलपुर, 11 नवंबर। विधानसभा चुनाव के मतदान के ठीक पहले प्रचार कार्य और लाऊडस्पीकरों की चिल्ल-पों थम गई है और मतदाता से प्रत्यक्ष संपर्क करने तथा मोबाइल से संपर्क साधने का कार्य शुरू हो गया है। मतदान के पहले साप्ताहिक बाजार के ठीक पहले प्रचार जो थमा था रविवार को उसकी परिणति यह हुई कि आज शहर में चुनावी शोरगुल शांत थी और वाहन भी अपेक्षाकृत कम चले। मतदान के ठीक पहले संभागीय मुख्यालय में प्रधानमंत्री मोदी की आमसभा और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की एक दिन के अंतर से हुई आम सभा में जो भाषण लोगों को सुनने मिला। उसके बारे में लोगबाग चर्चा करते हुए दिखाई दिये।
इसके अलावा शहर में आज विभिन्न चौराहों, पान की दुकानों और बाजार में लोगों के समूहों द्वारा इस बात पर भी चर्चा होती रही कि किसकी सभा में भीड़ अधिक थी और किसकी सभा में कम। इसके अलावा पार्टी कार्यालयों में कल से मतदान कराने के लिये पार्टी पदाधिकारियों की बैठकें भी हुई। भाजपा की कार्यालय में महिला मोर्चा की जिलाध्यक्षा दीप्ती पांडे सहित अन्य नेताओं ने बैठक कर कल से मतदान कराने की जिम्मेदारियों को कार्यकर्ताओं को सौंपने के लिये पहल होती रही। इसके अलावा कांग्रेस भवन में कार्यकर्ताओं की अच्छी भीड़ भी देखी गई।
जिसमें पीसीसी महामंत्री मलकीत सिंह गैदू, शहर कांग्रेस अध्यक्ष राजीव शर्मा सहित कई बड़े नेताओं ने अपनी सक्रियता दिखाने कार्यकर्ताओं को अधिक से अधिक मतदान कराने के लिये प्र्रेरित किया। इस प्रकार मतदान के पहले दोनों प्रमुख दलों के पदाधिकारियों ने अपनी रणनीति बनाकर चुनाव में कार्य करने के लिये पहल की।

शेयर करे...

HINDSAT CONTACT

Address :-

Hindsat Bhawan, Near Commissioner Office, Naya Munda Road, Maharani Ward, Jagdalpur

Contact :-

+91 9425258900, +91 7587216999

Email :-

Hindsat365@rediffmail.com

Newsletter

Subscribe to our newsletter. Don’t miss any news or stories.

We do not spam!