Monday, 22 October 2018

चालीस लाख लोगों को मिलेगा रोजगार
नई टेलीकॉम पॉलिसी को कैबिनेट की मंजूरी
नई दिल्ली, 26 सितंबर । कैबिनेट ने बुधवार को नई टेलीकॉम पॉलिसी को मंजूरी दे दी। इस नई नीति को राष्ट्रीय डिजिटल संचार नीति (एनडीसीपी), 2018 का नाम दिया गया है। इसके तहत 2022 तक क्षेत्र में 100 अरब डॉलर का निवेश आर्किषत करने और 40 लाख रोजगार के अवसरों के सृजन का लक्ष्य है।
दूरसंचार मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि वैश्विक स्तर पर संचार प्रणालियों में तेजी से प्रगति हो रही है। 5जी, इंटरनेट आफ थिंग्स और मशीन टु मशीन संचार आदि क्षेत्रों में यह प्रगति विशेष रुप से तेज है। सिन्हा ने कहा कि इस समय उपभोक्ताओं पर केंद्रित और एप्लिकेशन (उपयोग से प्रेरित) नीति लाने की जरूरत महसूस की जा रही थी। नीति के मसौदे के तहत एनडीसीपी द्रुत गति की ब्रॉडबैंड पहुंच बढ़ाने, 5जी और ऑप्टिकल फाइबर जैसी आधुनिक प्रौद्योगिकी के उचित मूल्य में इस्तेमाल पर केंद्रित है। एनडीसीपी 2018 के कुछ उद्देश्यों में सभी को ब्रॉडबैंक तक पहुंच उपलब्ध कराना, 40 लाख नए रोजगार के अवसरों का सृजन तथा वैश्विक आईसीटी इंडेक्स में भारत की रैंकिंग सुधारकर उसे 50 स्थान पर लाना शामिल है। सिन्हा ने कहा कि हमें उम्मीद है कि सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में टेलीकॉम क्षेत्र का हिस्सा बढ़कर आठ प्रतिशत पर पहुंच जाएगा जो अभी छह प्रतिशत है। हमें क्षेत्र में 100 अरब डॉलर का निवेश आने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि हमारी सोच एक देशव्यापी, लचीले, सुरक्षित और उचित मूल्य वाले संचार ढांचे की है। इसमें डिजिटल संचार तक सतत और कम मूल्य में पहुंच सुनिश्चित करने के लिए 'स्पेक्ट्रम के महत्तम मूल्यÓ के प्रावधान को शामिल किया गया है।

शेयर करे...

एशिया कप 2018: 696 दिनों बाद महेंद्र सिंह धोनी बने टीम इंडिया के कप्तान
नई दिल्ली ,25 सितंबर । मंगलवार को दुबई के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम मैदान पर एशिया कप मुकाबले में जब दोनों कप्तान मैदान पर उतर रहे थे सबकी नजरें ठहर गईं। अफगानिस्तान के कप्तान असगर अफगान के साथ जो शख्स टॉस के लिए उतर रहा था वह रोहित शर्मा नहीं था। जी, कैमरा जैसे ही फोकस हुआ सामने महेंद्र सिंह धोनी का चेहरा नजर आया। क्या, इस मैच में धोनी कप्तानी करेंगे। जी, करीब दो साल बाद महेंद्र सिंह धोनी एक बार फिर भारतीय टीम की कप्तानी कर रहे हैं। सही हिसाब लगाएं तो 696 दिन बाद धोनी टीम इंडिया की कप्तानी कर रहे हैं।
धोनी ने आखिरी बार 29 अक्टूबर 2016 को न्यू जीलैंड के खिलाफ विशाखापत्तनम में भारतीय टीम की कप्तानी की थी। इस मैच में भारत को 190 रनों से जीत मिली थी। बतौर कप्तान यह धोनी का 200वां एकदिवसीय मैच है। यह मुकाम हासिल करने वाले वह दुनिया तीसरे कप्तान हैं। एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा मैचों में कप्तानी करने का रेकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग के नाम है। पोंटिंग ने 230 मैचों में कप्तानी की जिसमें से 165 में ऑस्ट्रेलिया ने जीत हासिल की। इसके बाद न्यू जीलैंड के स्टीफन फ्लेमिंग का नंबर आता है जिन्होंने 218 मैचों में कप्तानी की और कीवी टीम ने इसमें से 98 मैच जीते।
धोनी के 199 मैचों में से 110 में भारत ने जीत हासिल की और 74 मुकाबले हारे। वहीं चार मैच टाई रहे और 11 का कोई नतीजा नहीं निकला। धोनी का जीत औसत 59.57 है, जो किसी भी भारतीय कप्तान से बेहतर है। आईसीसी ने भी अपने ट्वीट में धोनी की कप्तानी में वापसी को लेकर ट्वीट किया है। आईसीसी ने अपने इस ट्वीट में लिखा कैप्टन कूल इज बैक!
एशिया कप 2018 के सुपर 4 के इस मुकाबले में अफगानिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। भारतीय टीम ने इस मैच में अपनी बेंच स्ट्रेंथ को आजमाते हुए पांच बदलाव किए हैं। टीम में से- रोहित शर्मा, शिखर धवन, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह और युजवेंद्र चहल को आराम दिया गया है। और लोकेश राहुल, दीपक चाहर, मनीष पांडे, खलील अहमद और सिद्धार्थ कौल को टीम में शामिल किया गया है। भारत पहले ही टूर्नमेंट के फाइनल में पहुंच चुका है। वहीं अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश से हारने के बाद टूर्नमेंट से बाहर हो चुकी है।
टॉस के बाद धोनी ने मैच में अपनी रणनीति पर बात की। इस मैच में अफगानिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग का फैसला किया, जिस पर धोनी ने कहा कि अगर वह टॉस जीतते तो वह भी पहले फील्डिंग का ही निर्णय लेते। भारत के लिए 200वें वनडे में कप्तानी कर रहे धोनी ने कहा, मुझे यह विश्वास नहीं था कि जहां मैं खड़ा हूं मेरे पास ऐसा मौका आएगा। मैंने 199 वनडे मैचों में कप्तानी की है, तो इससे मुझे 200वें वनडे में कप्तानी करने का मौका मिला है। यह सब भाग्य है और मैं इसमें हमेशा भरोसा करता हूं। यह सब मेरे नियंत्रण में नहीं था, क्योंकि मैं अब कप्तानी छोड़ चुका हूं। बतौर कप्तान 200वां वनडे खेलना शानदार है, लेकिन मुझे नहीं लगता इसका कोई खास महत्व है।

शेयर करे...

पिछले एक साल से रोज 300 करोड़ कमा रहे हैं मुकेश अंबानी
नयी दिल्ली ,25 सितंबर । देश की सबसे धनवान शख्सियत मुकेश अंबानी की संपत्ति पिछले एक साल में हर दिन 300 करोड़ रुपये बढ़ी। बार्कलेज हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2018 में इस बात का खुलासा हुआ है। रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी 3 लाख 71 हजार करोड़ रुपये  की संपत्ति के साथ लिस्ट में लगातार सात वर्ष से पहले पायदान पर काबिज हैं। उनकी कंपनी के शेयरों का भाव 45 प्रतिशत बढ़ चुका है।
खास बात यह है कि अकेले मुकेश अंबानी की दौलत लिस्ट में शामिल दूसरे, तीसरे और चौथे पायदान पर काबिज क्रमश: एसपी हिंदुजा ऐंड फैमिली, एल एन मित्तल ऐंड फैमिली और अजीम प्रेमजी की मिलीजुली संपत्ति से ज्यादा है। लिस्ट में अंबानी के बाद काबिज इन लोगों की संपत्ति क्रमश: 1 लाख 59 हजार करोड़ रुपये, 1 लाख 14 हजार करोड़ रुपये और 96 हजार 100 करोड़ रुपये है।
बार्कलेज हुरुन इंडिया रिच लिस्ट भारत के उन महाधनवानों की एकीकृत सूची है जिनका नेट वर्थ 1,000 करोड़ रुपये या इससे ज्यादा है। 2018 की लिस्ट में पिछले वर्ष की लिस्ट से एक तिहाई ज्यादा शख्सियतें शामिल हो गई हैं। इस तरह 2017 में 617 लोगों की यह लिस्ट इस वर्ष बढ़कर 831 लोगों की हो गई है।
सन फार्मा के दिलिप सांघवी लिस्ट में पांचवें पायदान पर हैं। पिछले साल वह तीन पायदान ऊपर थे। रिपोर्ट में कहा गया है, सुजलॉन में उनकी संपत्ति को पहुंचा नुकसान ने सन फार्मा के शेयर में आई मामूली तेजी की भरपाई कर दी। सुजलॉन के शेयरों के भाव 50 प्रतिशत से ज्यादा गिर गए। अप्रैल 2018 में सांघवी यूनिकेम लेबरटरीज में 3.8 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी। जून 2018 में गुजरात में इसके प्लांट की गुणवत्ता के लेकर अमेरिकी फूड ऐंड ड्रग अथॉरिटी की आपत्ति संतोषजनक तरीके से निपट गई और कंपनी को क्लीन चिट मिल गया। सांघवी की संपत्ति करीब 89 हजार 700 करोड़ रुपये की है।
वहीं, 78,600 करोड़ रुपये की अकूत दौलत के साथ कोटक महिंद्रा बैंक के उदय कोटक लिस्ट में छठे स्थान पर हैं। उनके बाद सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के साइरस एस. पूनावाला 73 हजार करोड़ रुपये, अडानी एंटरप्राइजेज के गौतम अडानी 71 हजार 200 करोड़ रुपये और साइरस पालोनजी 69,400 करोड़ रुपये के साथ क्रमश: छठे, सातवें और आठवें स्थान पर हैं।
इस रिपोर्ट में भारत के टॉप महाधनवान परिवारों का जिक्र है किया गया है। अंबानी परिवार यहां भी टॉप है। उसके बाद गोदरेज, हिंदुजा, मिस्त्री, सांघवी, नाडर, अडानी, दमानी, लोहिया और बर्मन परिवारों का नंबर आता है।

शेयर करे...

(नईदिल्ली)सीलिंग केस में मनोज तिवारी की मुश्किल बढ़ी
0-सुप्रीम कोर्ट ने एक हफ्ते में मांगा जवाब
नई दिल्ली ,25 सितंबर । दिल्ली में सीलिंग केस में बीजेपी अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी की मुश्किल बढ़ती नजर आ रही है। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली के गोकुलपुर में एक गांव की सीलिंग तोडऩे के मामले में एक हफ्ते भीतर जवाब देने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने अपनी मॉनिटरिंग कमिटी की रिपोर्ट के आधार पर मनोज तिवारी को अवमानना का नोटिस जारी कर रखा है। इस मामले में आज मनोज तिवारी सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए।सुप्रीम कोर्ट अब इस मामले की सुनवई 8 अक्टूबर को करेगा।
सुप्रीम कोर्ट ने मनोज तिवारी के उस बयान पर जताई नाराजगी जिसमे कहा था कि एक हजार जगहें ऐसी हैं, जिसमें सील लगनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने मनोज तिवारी, कहा सुबह तक उनकी लिस्ट दें, हम आपको सीलिंग अफसर ही बना देते है। हालांकि तिवारी के वकील विकाश सिंह ने कहा कि ये लिस्ट न मांगी जाय ये सांसद हैं। तब कोर्ट ने कहा कि सांसद हैं तो कुछ करेंगे।
इससे पहले जस्टिस मदन बी लोकुर, जस्टिस एस अब्दुल नजीर और जस्टिस दीपक गुप्ता की पीठ ने बीजेपी सांसद मनोज तिवारी को 25 सितंबर को पेश होने का निर्देश दिया था। बेंच ने यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक निर्वाचित प्रतिनिधि ने शीर्ष अदालत के आदेशों की अवहेलना करने का प्रयास किया।
आपको बता दें कि गोकुलपुरी इलाके में सील किए गए एक परिसर का ताला तोडऩे के आरोप में मनोज तिवारी के खिलाफ पिछले मंगलवार को प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। उत्तर पूर्वी दिल्ली में स्थित यह संपत्ति सील की गई थी क्योंकि इसमें दिल्ली के मास्टर प्लान का कथित रूप से उल्लंघन करके डेयरी चलायी जा रही थी।

शेयर करे...

HINDSAT CONTACT

Address :-

Hindsat Bhawan, Near Commissioner Office, Naya Munda Road, Maharani Ward, Jagdalpur

Contact :-

+91 9425258900, +91 7587216999

Email :-

Hindsat365@rediffmail.com

Newsletter

Subscribe to our newsletter. Don’t miss any news or stories.

We do not spam!